Rahul...

13 November 2010

..भींगी रात

..भींगी रात
..निशब्द मन
सिर्फ मौन.. सिर्फ मौन ...
सहेज लो.. कुछ बात
 निशब्द मन
हर पल.. ख़ास पल
सहेज लो.. कुछ बात
मुमकिन सी रात
बस भींगी रात
ओस में नहाती बात ...
एक कदम ... दो कदम
तेरे संग ..
टूटी रात.. बिखरी रात 
सहेज लो.. कुछ बात
                                        राहुल

1 comment:

  1. सहेजने योग्य सृजन..

    ReplyDelete