Rahul...

14 January 2015

चारागरो ये तस्कीन कैसी 
मैं भी हूँ इस दुनिया में 
उनको ऐसा दर्द कब उठा 
जिन को बचाना होता था....

7 comments:

  1. दर्द हमारे हिस्से होना होता है, सारा आला, असला तो उनके हिस्से है.

    ReplyDelete
  2. सुन्दर शब्द रचना...
    http://savanxxx.blogspot.in

    ReplyDelete
  3. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति :)

    ReplyDelete
  4. सुंदर प्रस्‍तुति।

    ReplyDelete
  5. सुंदर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete