Rahul...

24 April 2012

ऐ मेरे मालिक.....

ऐ मेरे मालिक.....
मुझे रास्ता दिखा
थोड़ी रोशनी दे
मेरे सफ़र को
अपना सा दामन दे..

ऐ मेरे मालिक.....
मै कदम बढ़ा सकूं
खुद का ख्याल मिटा सकूं
अपने करीब 
तिनके सा आसरा दे.....

ऐ मेरे मालिक......
मेरे अश्क के सहरा को
थोड़ी बारिश दे
थकी आँखों को 
पत्थर सा हौसला दे...
                                            राहुल      

6 comments:

  1. ऐ मेरे मालिक.....
    मै कदम बढ़ा सकूं
    खुद का ख्याल मिटा सकूं
    अपने करीब
    तिनके सा आसरा दे.....
    वाह ,....बहुत खूबसूरत
    आपका लिखा पढ़ने की बात ही कुछ और है सर!

    ReplyDelete
  2. bahut hi badhiya likha hai..
    sundar prastuti....

    ReplyDelete
  3. ऐ मेरे मालिक......
    मेरे अश्क के सहरा को
    थोड़ी बारिश दे
    थकी आँखों को
    पत्थर सा हौसला दे...

    अद्भुत भाव का संयोजन किया है आपने इस रचना में ...!

    ReplyDelete
  4. मेरी भी ऐसी ही विफल पुकार है..

    ReplyDelete
  5. बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति....


    इंडिया दर्पण
    की ओर से शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  6. खूबसूरत रचना...अच्‍छी प्रस्‍तुति...बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete